KHATU SHYAM JI AARTI

Khatu Shyam Baba Wallpaper - Khatu Shyam Baba - 1600x900 - Download HD Wallpaper - WallpaperTip

श्री खाटू श्याम जी की आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे,
बाबा जय श्री श्याम हरे।
खाटू धाम विराजत,
अनुपम रूप धरे॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

रतन जड़ित सिंहासन,
सिर पर चंवर ढुरे ।
तन केसरिया बागो,
कुण्डल श्रवण पड़े ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

गल पुष्पों की माला,
सिर पार मुकुट धरे ।
खेवत धूप अग्नि पर,
दीपक ज्योति जले ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

मोदक खीर चूरमा,
सुवरण थाल भरे ।
सेवक भोग लगावत,
सेवा नित्य करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

झांझ कटोरा और घडियावल,
शंख मृदंग घुरे ।
भक्त आरती गावे,
जय-जयकार करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

जो ध्यावे फल पावे,
सब दुःख से उबरे ।
सेवक जन निज मुख से,
श्री श्याम-श्याम उचरे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

श्री श्याम बिहारी जी की आरती,
जो कोई नर गावे ।
कहत भक्त-जन,
मनवांछित फल पावे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

जय श्री श्याम हरे,
बाबा जी श्री श्याम हरे ।
निज भक्तों के तुमने,
पूरण काज करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

ॐ जय श्री श्याम हरे,
बाबा जय श्री श्याम हरे।
खाटू धाम विराजत,
अनुपम रूप धरे॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

 

श्री श्याम पुष्पांजलि

हाथ जोड़ विनती करु, सुनियो चित लगाय।

दास आ गयो शरण मैं, राखियो महरी लाज।

धन्या दुधारो देश है, खाटू नगर सुजान।

अनुपम चवी श्री श्याम की, दर्शन सी कल्याण।

श्याम-श्याम से मा रट्टू, श्याम है जीवन प्राण।

श्याम भक्त जग मैं बडे, उनको करु परनाम।

खाटू नगर के बीच मैं, बन्यो अपको धाम।

फाल्गुन शुक्ल – द्वादशी, उत्सव भर्तृ होय।

बाबा के दरबार से, खली जय न कोय।

उमापति, लक्ष्मीपति, सीतापति श्रीराम।

लज्जा सबकी राखियो, खाटू के बाबा श्याम।

पान सुपारी इलची, अत्तर सुगंध भरपुर।

सब भक्तन की विनती, दर्शन देवो हजूर।

श्री अलुसिंह ‘प्रेम से, धारे श्याम को ध्यान श्याम भक्त पावे सदा श्याम कृपा से मान।

                            khatushyam - JungleKey.in Image #250